इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष सुधा मूर्ति के जीवन की प्रेरणादायक कहानी

कुछ लोग तो कहेंगे, क्योंकि लोगों का काम है कहना. आखिर कब तक हम डर डर के जिए? आखिर कब तक हम दूसरो की बातें और ताने सुनते रहे? क्योंकि लोगों का काम है कहना, पर उसे नजरअंदाज करके आगे बढ़ते रहने से ही कामियाबी मिलती है. आज हम जानने वाले है ऐसी ही एक लड़की की प्रेरणादायक कहानी जिन्होंने अपना रास्ता खुद चुना और उन्होंने अपने जीवन में किसी की भी परावा नहीं की. यह कहानी सुधा मूर्ति की है. शायद आपको सवाल होता होगा की आखिर कौन है सुधा मूर्ति? Who is Sudha Murthy? चलिए जानते है सुधा मूर्ति के जीवन से जुडी रसप्रद जानकारी.

who-is-sudha-murthy
Who is Sudha Murthy

Who is Sudha Murthy?

अगर हम अपने जीवन में अच्छे काम करते है तब लोग हमें सुनाते है. सुधा मूर्ति ऐसी ही समस्या से गुजरी है और आज वह एक प्रसिद्ध शिक्षक, बिजनेस पर्सन, लेखक और Philanthropist है. उन्होंने अपनी जिंदगी में बहुत सारे अच्छे काम किये है. लोगों की बातों को अनसुनी करके आज भी इस जगह पहुंच गई है, जहाँ पहुँचने के लिए हम सोच भी नहीं सकते. वह भारत की पहली महिला इंजीनियरिंग और लोकोमोटिव कंपनी की निर्माता बनी है.

Sudha Murthy Biography:

सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 को कर्नाटक में शिगांव में हुआ है. वह एक ब्राह्मण परिवार से है. सुधा मूर्ति के पिता का नाम डॉ. आर. एच. कुलकर्णी और माता का नाम विमला कुलकर्णी है. सुधा मूर्ति के पिताजी एक सर्जन और माताजी गृहिणी थी. इतना ही नहीं उनके भाई का नाम श्रीनिवास कुलकर्णी और दो बहन है जिसका नाम जयश्री देशपांडे और सुनंदा कुलकर्णी है. उनकी हाइट 5’2 इंच और वेट 56 है.

Sudha Murthy Education:

सुधा मूर्ति ने अपनी शिक्षा इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक और कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स डिग्री हांसिल की है. सुधा मूर्ति को इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में प्रथम स्थान मिला था. एक समारोह में सुधा मूर्ति को मुख्यमंत्री से स्वर्ण पद भी मिला. वह पढाई में काफी तेज थी. उसको बचपन से ही बड़ा बनेका सपना रहा है.

Sudha Murthy Struggle Story:

जब भी हम कुछ ना कुछ बड़ा करने की सोचते है तो कोई ना कोई हमारे जीवन में टांग अड़ाते ही रहते है. ऐसी ही कहानी है सुधा मूर्ति की. सुधा मूर्ति पढ़ने में बहुत तेज थी. उनका सपना इंजीनियरिंग का था, लेकिन लड़कियों के लिए इंजीनियरिंग करना नामुमकिन था. इंजीनियरिंग सिर्फ लडके ही करते है और आज वही इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में पहली महिला है. जब वह इंजीनियरिंग की पढाई कर रही थी तब उनकी कॉलेज में वह अकेली लड़की थी. लाखो लडके के बिच एक ही लड़की थी सुधा मूर्ति. इतना ही नहीं, इंजीनियरिंग कॉलेज में महिलाओं के लिए वीमेन टॉयलेट भी नहीं था.

जब सुधा मूर्ति इंजीनियरिंग में आई तो उनके ऊपर कुछ स्लाइड और कागज़ का हवाई जहाज फेका जाता था. लड़के उनको हर वक्त परेशान करते रहते थे, लेकिन कभी भी उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा और वह अपना काम ही करती रही. उसने कभी भी हार नहीं मानी. कहते है की सिक्के की दो बाजुए होती है. एक अच्छी तो दूसरी बुरी. सुधा ने सिर्फ अच्छाई का ही रास्ता चुना. हर वक्त उनको लडके परेशान करते रहते थे तब उनको पता था की चाहे वो लोग जितना भी तंग करले, लेकिन एग्जाम में में ही फर्स्ट आउंगी.

अगली एग्जाम में सुधा फर्स्ट क्लास से पास हुई. सुधा मूर्ति इंजीनियरिंग में फर्स्ट क्लास आने के बाद उन्होंने टेल्को में जॉब के लिए अप्लाई किया. टेल्को में अप्लाई करते वक्त उसमे लिखा था की इसमें लडकिया हिस्सा नहीं ले सकती. तब सुधा मूर्ति ने अपनी जान छिड़क दी. एक दिन सुधा मूर्ति ने JRD TATA को एक पत्र लिखा. उसमे सुधा मूर्ति ने लिखा था की आप हमेशा दुसरो की सुनते रहते हो. हमेशा लडके और लड़कियों में अंतर बनाए रखते है. यह जॉब के लिए लडकिया भी अप्लाई कर सकती है. ऐसा क्यू की सिर्फ लडके ही अप्लाई करे?

हमें अपने आगे के भविष्य के बारे में सोचना चाहिए. उनका यह पत्र पढ़ने पर JRD TATA ने सुधा मूर्ति को बुलाया. बाद में JRD TATA ने काफी सारे सवाल जवाब सुधा मूर्ति को किए, परंतु सुधा मूर्ति ने हमेशा की तरह अच्छे से ही जवाब दिए. फिर उस समय सुधा मूर्ति को जॉब भी मिल गई. उस समय इंजीनियरिंग में फर्स्ट महिला थी. यह हमारे लिए गर्व की बात है.

who-is-sudha-murthy
Who is Sudha Murthy

Sudha Murthy Marriage:

सुधा मूर्ति को टेल्को में जॉब मिलने के बाद उसने शादी भी कर ली. उनके पति का नाम एन आर नारायण मूर्ति है. उसके दो बचे भी है. सुधा मूर्ति के लडके का नाम रोहन और लड़की का नाम अक्षता मूर्ति है. शादी के बाद कोई भी पति नहीं चाहता के उनकी पत्नी अपने पैरो पर खड़ी रहे, लेकिन शादी के बाद सुधा मूर्ति के पति चाहते थे ली वो कोई अपना बिजनेस करे. लेकिन बिजनेस करने के लिए कुछ पैसे होने चाहिए. परंतु उनके पति के पास आईडिया ही था. जब सुधा जॉब करती थी तब उन्होंने कुछ पैसे बचा कर रखे थे. तब सुधाने वह पैसे अपने पति को बिजनेस के लिए 10000 रूपए दिए.

सुधा मूर्ति ने अपने पति को 10000 रुपए दे दिए. साथ में सुधा ने यह भी कहा की आप किसी बात की चिंता मत करना. घर का सारा खर्चा में उठा लुंगी. आपके पास बिसनेज करने के लिए 3 साल है. बाद में उनके पति ने अपने घर को ही ऑफिस बनाई. कई सारे कस्टमर भी आए. उस समय सुधा मूर्ति ने वॉलचंद ग्रुप ऑफ़ इंडस्ट्री के साथ काम किया.

सुधा मूर्ति ने घर की और बाहर की जरूरत को बहुत अच्छे से निभाई. यह बिसनेस में उनके पति का का नाम रोशन हो गया. सुधा मूर्ति के पति का बिसनेस का नाम था इनफ़ोसिस (INFOSYS). बाद में सुधा ने टेल्को में जॉब करना छोड़ दिया और उनके पति के साथ वह जुड़ गई. जॉब छोड़ ने के बाद JRD TATA ने कहा की थोड़े पैसे खुद के लिए रखना और थोड़े पैसे बचते है उसे समाज सेवा में लगा देना. बाद में सुधा ने 1997 में INFOSYS FOUNDATION में ट्रस्टी के तौर पर शामिल हो गई. इतने पैसे होने के बाद भी सुधा अपनी जिंदगी नॉर्मल व्यक्ति जैसी जीती है.

Sudha Murthy Career:

सुधा मूर्ति ने अपने करियर की शुरुआत शादी के बाद ही कर दी थी. वह TELCO में जॉब करने वाली पहेली महिला रही. बाद में उन्होंने मुख्यमंत्री से स्वर्ण पद भी प्राप्त किया है. उन्होंने मुंबई और जमशेदपुर के बिच काम किया. फिर वह ग्रुप ऑफ़ इंडस्ट्रीज के रूप में पुणे में शामिल हो गई.

1997 में INFOSYS FOUNDATION ट्रस्ट में ट्रस्ट्री के तौर पर शामिल होने के साथ साथ बैंगलोर में आज वह PG सेंटर में विजिटिंग में एक प्रोफेसर पद पर भी है. कई सारे छात्रों को यूनिवर्सिटी में पढ़ाए जा रहे है. सुधा ने अब तक कई सारि किताबे लिखी. सुधा मूर्ति ने 2006 में कन्नड़ की सीरियल में भी काम किया और 2017 में उप्पू हुली खरा मूवी (Uppu Huli Hhara movie)में भी काम किया.

Sudha Murthy Net Worth:

सुधा मूर्ति की टोटल सम्पति (Sudha Murthy Net Worth) 775 करोड़ रुपये है. साथ ही वह समाज सेवा भी करती है. उन्होंने गरीब बच्चो के लिए संस्था भी खोली और लाब्रेरी बनाई है.

Sudha Murthy Books in Kannada:

  •     अस्तित्व
  •     आजीच्या पोतडीतील गोष्टी
  •     आयुष्याचे धडे गिरवताना
  •     द ओल्ड मॅन अ‍ॅन्ड हिज गॉड (अंग्रेजी)
  •     बकुळ
  •     गोष्टी माणसांच्ता
  •     जेन्टली फॉल्स द बकुला (अंग्रेजी)
  •     डॉलर बहू (अंग्रेजी), (मराठी)
  •     तीन हजार टाके (मूळ इंग्रजी, ’थ्री थाउजंड स्टिचेस’; मराठी अनुवाद लीना सोहोनी)
  •     थैलीभर गोष्टी
  •     परिधी (कन्नड)
  •     परीघ (मराठी)
  •     पितृऋण
  •     पुण्यभूमी भारत
  •     द मॅजिक ड्रम अ‍ॅन्ड द अदर फेव्हरिट स्टोरीज (अंग्रेजी)
  •     महाश्वेता (कन्नड व अंग्रेजी)
  •     वाइज अ‍ॅन्ड अदरवाइज (अंग्रेजी), (मराठी)
  •     सामान्यांतले असामान्य
  •     सुकेशिनी
  •     हाउ आय टॉट माय ग्रँडमदर टु रीड अ‍ॅन्ड अदर स्टोरीज (अंग्रेजी)

Sudha Murthy Awards:

  •     डॉक्टरेट ऑफ लॉ की उपाधि (2011)
  •     सुधा मूर्ति को भारत सरकार ने 2006 में पद्म श्री पुरस्कार
  •     आरके नारायण पुरस्कार (2006)
  •     राजा-लक्ष्मी पुरस्कार (2004)
  •     वुमन ऑफ द ईयर (2002)
  •     मिलेनियम महिला शिरोमणि, कर्नाटक राज्योत्सव, ओजस्वनी पुरस्कार (2000)
  •     बेस्ट टीचर पुरस्कार (1995)

Sudha Murthy Books for Kids:

  • द मैन फ्रॉम द एग (The Man From the Egg)
  • हाउ आई टॉट माय ग्रैंड मदर टू रीड (How I Taught My Grandmother to Read)
  • ए बर्ड विद गोल्डन विंग्स (The Bird with Golden Wings)
  • द मैजिक ड्रम एंड अदर फेवरेट स्टोरीज (The Magic Drum and Other Favourite Stories)
  • द अपसाइड डाउन किंग – द टेल्स अबाउट राम एंड कृष्ण (The Upside-Down King: Unusual Tales about Rama and Krishna)
  • द सर्पेंट्स रिवेंज: अनयूजुअल टेल्स ऑफ महाभारत (The Serpent’s Revenge: Unusual Tales from the Mahabharata)

Sudha Murthy Books in English:

  • Wise and Otherwise
  • Dollar Bahu
  • The Old Man and His God: Discovering the Spirit of India
  • Three thousand stitches
  • The Serpent’s Revenge
  • The Day I Stopped Drinking Milk
  • Magic of the lost Temple
  • House of Cards
  • How I Taught My Grandmother to Read
  • The Magic Drum And Other Favourite Stories (children’s stories)
  • Something Happened on the Way to Heaven
  • The Bird with Golden Wings: Stories of Wit and Magic
  • Here, There, Everywhere
  • Gently Falls the Bakula
  • The Accolades Galore
  • The Man from the Egg
  • Grandma’s Bag of Stories (children’s fiction)
  • The Mother I Never Knew (two novellas)

आपने Sudga Murthy की यह रियल लाइफ स्टोरी (Real Life Story) दिलचस्पी से पढ़ी इसका मतलब है की आपको ऐसी इंस्पिरेशनल रियल लाइफ स्टोरी (Inspirational Real Life Story) पढ़नी बहुत अच्छी लगती है। ऐसी ही पुरानी वास्तविक प्रेरणादायक कहानी भी आपको पसंद आएगी, जैसे की सिर्फ 2 रुपए कमाने वाली Kalpana Saroj आज है 700 करोड़ की मालकिन! और MBA की डिग्री छोड़ प्रफ्फुल बिल्लोर चाय बेच कर ऐसे बना करोड़पति!

अगर आप या आपके आस पास भी कोई ऐसी व्यक्ति है जो अपने जीवन में बहुत संघर्ष करके सफलता की चोटी पर पहुंचे है, तो उनके बारे में हमें हमारा संपर्क करके जरूर से बताए। हम उनकी रियल लाइफ स्टोरी (Life Inspirational Story) इस साइट पर प्रसिद्ध करेंगे, ताकी अन्य लोगों को प्रेरणा मिल सके और जीवन में आगे बढ़ पाए।

ऐसे ही जीरो से हीरो (Zero to Hero) बने महान लोगों की प्रेरणादायक कहानियां का वीडियो देखना पसंद करते हो तो हमारी यूट्यूब चैनल Sangharsh Gatha को जरूर से सब्सक्राइब कर लेना। लेटेस्ट अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहने के लिए हमारी टेलीग्राम चैनल Sangharsh Gatha को भी ज्वाइन कर लेना. धन्यवाद्.

What is the name of Sudha Murthy daughter?

Sudha Murthy’s daughter’s name is Akshata Murty.

सुधा मूर्ति के पति का क्या नाम है ?

सुधा मूर्ति के पति का नाम एन आर नारायण मूर्ति है.

सुधा मूर्ति के कितने बचे है।

सुधा मूर्ति के दो बचे है.

सुधा मूर्ति क्यों प्रसिद्ध है?

सुधा मूर्ति इस लिए प्रसिद्ध है की वह एक ऑटो निर्माता टाटा इंजीनियरिंग एंड लोकोमोटिव कंपनी (टेल्को) में नियुक्त पहली महिला इंजीनियर बनीं.

सुधा मूर्ति को किसने प्रेरित किया?

सुधा मूर्ति को प्रेरित J.R.D. Tata ने प्रेरित किया.

This Post Has One Comment

Leave a Reply