भारत की बहादुर बेटी कल्पना चावला की मशहूर अनसुनी कहानी

इस दुनिया मे जन्मे हुए सभी लोगों को एक ना एक दिन इस खूबसूरत जहाको छोड़कर जाना होता है. मगर दुनिया में कुछ लोग जीने के लिए आते है. मौत तो महज उनके शरीर को ख़त्म करती है. आज आपसे बताने वाली हु भारत की बहादुर बेटी कल्पना चावला (Kalpana Chawla Information in Hindi) के बारे में. भले ही 1 फरवरी 2003 कोलंबिया स्पेस सटल की दुर्घटना ग्रस्त होने के साथ कल्पनाकि उड़ान दुब गई लेकिन आज भी वो दुनिया के लिए मिसाइल है. सोचको कई नहीं बदल सकता. सोच हमेशा उड़ान भरके आई है और भर्ती आएगी.

kalpana-chawla-information-in-hindi
Kalpana Chawla Information in Hindi

Kalpana Chawla Biography:

अंतरिक्ष की पारी कहने वाली कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च, 1962 को हरियाणा के करनाल में हुआ था. कल्पना अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय महिला थी. कल्पना चावला के पिता का नाम बनारसीलाल और माता का नाम संजोती है. कल्पना चावला की बहनों का नाम सुनीता और दीपा है जबिक उनके भाई का नाम संजय है. बचपन में सभी लोग उन्हें प्यार से ‘मोटू’ कहके बुलाते थे. कल्पना नाम की अंगूठी बहुत ही कल्पना भरी सोच रखती थी. वो हमेशा आकाश और उनकी उचाई के बारे में सोचती रखती थी. अपने पापा से हमेशा विमान और चाँद-तारो के बारे में बाते किया करती थी.

Kalpana Chawla Education:

कल्पना चावला की प्रारंभिक पढाई करनाल की टैगोर बाल निकेतन सीनियर सेकेंडरी स्कूल में हुई थी. फिर कल्पनाने 1982 चंडीगढ़ इंजीनियरिंग कॉलेज से एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की डिग्री लिया. उसके बाद वो अपने ख्याबो को पूरा करने अमेरिका चली गई. जहा उन्होंने कोलोराडो यूनिवर्सिटी से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की.

Career of Kalpana Chawla:

कल्पनाको 1988 में नासा में शामिल कर दिया गया. यहाँ रह कर उन्होंने बहुत सारे रिसर्च किये। कल्पना चावला की लगन और महेनत को देखकर बाद में चल के उन्हें अंतरिक्ष मिसन टॉप 15 की टीम में शामिल किया गया और देख ते ही देख ते उन 6 लोगो की टीम में उनका नाम आ गया. जिन्हे अंतरिक्ष में भेजा जाना था और इसी तरह कल्पना को अब उसके पंख लग चुके थे.

कल्पना चावला का पहला अंतरिक्ष मिसन 19 नवंबर 1997 को 6 अंतरिक्ष यात्रिओ के टीम के साथ अंतरिक्ष सटल कोलंबिया की ने फ्लोरिडा के केप कैनावेरल में कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी थी. कोलंबिया की उड़न STS-87 से से शुरू हुआ. कल्पना चावला अंतरिक्ष में उड़ने वाली प्रथम भारतीय महिला थी. 

यह मिसन सफलता पूर्व 5  दिसंबर 1997 में समाप्त हुआ. उस मिसन के बाद भारत के टेलेंट को पुरे विश्व में पहचाने लगे. जिस समय भारत के लोगोको अंतरिक्ष की समज भी नहीं थी उस समय भारत की बेटी कल्पना चावला ने अंतरिक्ष में जाकर पुरे विश्व में भारत का परचा लहराया था. सभी ने उनके जस्बे को सलाम किया और पांच साल के बाद उन्हें नासा में अंतरिक्ष में जाने के लिए चुना.

Kalpana Chawla Death:

कल्पना चावला की दूसरी उड़ाई 16 जनवरी 2003 को कोलंबिया स्पेस सटल से आरंभ किया. यह 16 तीन का मिसन था. इस मिसन में उन्होंने अपने सयोगी के साथ मिलकर लगभग 80 परिक्षण ओर प्रयोग किए. लेकिन फिर वो हुआ जिसे सोच कर आज भी आँखे भर आती है. हाथो में फूल लिए हुए स्वागत के लिए खड़े हुए वैगनानिक और अंतरिक्ष के प्रेमी सहीद लोग उस नज़ारे को देख कर शौक में दुब गया.

धरती में उतरने में सिर्फ 16 मिनिट ही रह गए थे. तब अचानक सटल ब्लास्ट हो गया और कल्पना की साथ ही साथ 6 अंतरिक्ष यात्री भी मारे गए. भले ही कल्पना उस दुर्घटना की शिकार हुई हो लेकिन वो आज ही हमारे दिलो में जिंदा है. वो आज पुरे विश्व के लोगो के लिए आदर्श है. में वही आज बात दौरान चाहती हु की.

दुनिया में कुछ लोग सिर्फ जीने के लिए आते है

मौत तो महज उनके शरीर को ख़त्म कर देती है.

12 सितंबर, 2002 को भारत द्वारा लॉन्च किया गया श्रृंखला का पहला उपग्रह, “मेटसैट -1”, अब “कल्पना -1” के रूप में जाना जाएगा. कल्पना चावला की इच्छा के आधार पर, दुनिया भर में पर्यावरण संरक्षण परियोजनाओं पर $3,00,000 का फंड स्थापित भी किया गया.

कोलंबिया अंतरिक्ष यान में उनके साथ जो अन्य यात्री थे उनके नाम:

       कमांडर रिक डी . हुसबंद
         पायलट विलियम स. मैकूल
      कमांडर माइकल प . एंडरसन
      इलान रामों
        डेविड म . ब्राउन
      लौरेल बी . क्लार्क
Kalpana Chawla Information in Hindi

कल्पना चावला मरणोपरांत पुरस्कार:

        काँग्रेशनल अंतरिक्ष पदक के सम्मान
       नासा अंतरिक्ष उड़ान पदक
        नासा विशिष्ट सेवा पदक
Kalpana Chawla Information in Hindi

अगर आप या आपके आस पास भी कोई ऐसी व्यक्ति है जो अपने जीवन में बहुत संघर्ष करके सफलता की चोटी पर पहुंचे है, तो उनके बारे में हमें हमारा संपर्क करके जरूर से बताए। हम उनकी रियल लाइफ स्टोरी (Real Life inspirational Story in Hindi) इस साइट पर प्रसिद्ध करेंगे, ताकी अन्य लोगों को प्रेरणा मिल सके और जीवन में आगे बढ़ पाए। इस मोटिवेशनल रियल लाइफ स्टोरी (Motivational Real Life Story) को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर से शेयर करना और आपका मंतव्य निचे कमेंट करके जरूर से बताना।

आपने यह कल्पना चावला की प्रेरणादायक रियल लाइफ स्टोरी (Motivational Real Life Story) दिलचस्पी से पढ़ी इसका मतलब है की आपको ऐसी इंस्पिरेशनल रियल लाइफ स्टोरी बहुत अच्छी लगती है। ऐसी ही पुरानी वास्तविक प्रेरणादायक कहानी भी आपको पढनी अच्छी लगेगी, जैसे की वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने वाली पहली महिला सुरेखा यादव और विकलांग महिला अरुणिमा सिन्हा के बारे में जानते है

ऐसे ही जीरो से हीरो (Zero to Hero) बने महान लोगों की प्रेरणादायक कहानियां का वीडियो देखना पसंद करते हो तो हमारी यूट्यूब चैनल Sangharsh Gatha को जरूर से सब्सक्राइब कर लेना। लेटेस्ट अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहने के लिए हमारी टेलीग्राम चैनल Sangharsh Gatha को भी ज्वाइन कर लेना. धन्यवाद्.

What is kalpana chawla age?

Kalpana Chawla age is 40 years.

कल्पना चावला के पति का नाम क्या है?

कल्पना चावला के पति का नाम जीन पियरे हैरीसन है.

कल्पना चावला की शादी कब हुई थी?

कल्पना चावला की शादी सन 2 दिसंबर 1983 में हुई थी.

चांद पर पहली भारतीय महिला कौन थी?

चांद पर पहली भारतीय महिला कल्पना चावला थी.

कल्पना चावला को प्यार से क्या कहा जाता है?

कल्पना चावला को प्यार से मोंटू कहा जाता है.

Leave a Reply