KFC के कर्नल हारलैंड सैंडर्स की सफलता की प्रेरणादायक कहानी

दुनिया में मुश्किल कुछ भी नहीं है. अगर सच्चे दिल से कुछ पाने की कोशिश करे तो सब कुछ आसान हो जाता है. आज में वो इंसान की सफलता की प्रेरणादायक कहानी हिन्दी में (Motivational Story in Hindi for Success) बताने जा रही हूँ, जिन्होंने अपनी जिंदगी में बहुत सारे संघर्ष किए है. जिन्होंने असफलता से सफलता हासिल की वह इंसान है KFC का स्थापक (KFC Founder) कर्नल हारलैंड सैंडर्स (Colonel Harland Sanders). आपने KFC चिकन का नाम सुना ही होगा उसका स्थापक की कहानी बहुत ही रसप्रद और प्रेरणादायक है, जो जीवन में आगे बढ़ने के लिए उपयोगी हो सकती है. चलिए जानते है संघर्ष करके जीवन में आगे बढ़ी इस व्यक्ति के जीवन से जुडी कुछ रोचक बातें.

motivational-story-in-hindi-for-success
Motivational Story in Hindi for Success

KFC की स्थापना किसने की?

KFC का पूरा नाम केंटकी फ्राइड चिकन (Kentucky Fried Chicken) है. KFC की स्थापना कर्नल हारलैंड सैंडर्स (Colonel Harland Sanders) ने की है. KFC की स्थापना साल 1930 में अमेरिका के केंटकी में हुई थी. KFC के मालिक कर्नल हारलैंड सैंडर्स है.

कर्नल हेरलैंड सैंडर्स की जीवनी:

कर्नल का जन्म 9 सितम्बर 1890 में अमेरिका के हेनरीविले में हुआ था. कर्नल के पिता का नाम डेविड सैंडर्स और माता का नाम मार्गरेट सैंडर्स था. उनके भाई का नाम क्लारेंस और छोटी बहन का नाम कटहरीर था. साल 1895 के दिन गर्मी का मौसम चल रहा था. तब उनकी पिता की मृत्यु हो गई.

पिता के निधन के बाद उनकी स्तिथि ख़राब होती गई और उनकी माता को भी काम के लिए बहार जाना पड़ा. परिवार की सारि जिम्मेद्दारी कर्नल के ऊपर आ गई थी. 7 साल  की उम्र में भाई और बहन की जिम्मेद्दारी आ गई थी. उनकी स्तिथि ज्यादा ख़राब थी. वह सब जगह नौकरी की तलाश में गए, लेकिन कुछ भी सफलता नहीं मिली. यहाँ तक की ऐसी हालात में कर्नल की पत्नी भी उसे छोड़ कर चली गई.

कर्नल हारलैंड सैंडर्स की शिक्षा:

कर्नल हारलैंड सैंडर्स ने अपनी शिक्षा सातवीं तक ही की. फिर उसने अपनी पढाई छोड़ दी. 7 साल की उम्र में अपने पिता को खो दिया और 12 साल का था तब उनकी माता ने दूसरी शादी कर ली. दूसरी शादी के बाद उनके सौतेले पिता कर्नल सैंडर्स को जरा भी पसंद नहीं करते थे. फिर उसने 1903 में अपना घर छोड़ दिया और वह फार्म में अपने अंकल के पास रहने लगे.

7 साल में की उम्र में अच्छा कुक:

जब पिता की मृत्यु हो गई तब उनकी माता फैक्टरी में काम करने लगी। उनकी माता काम करने की वजह से सारा दिन बहार रहती थी तब उनकी माँ ने कर्नल को खाना बनाना सिखाया। वह छोटी सी उम्र में खाना भी अच्छा बना लेता था. उनकी पसंदीदा चीज थी चिकन बनाना.

13 साल की उम्र में घर छोड़ा:

दूसरी शादी के बाद उनके सौतेले पिता को कर्नल सैंडर्स जरा भी पसंद नहीं करते थे, इसलिए उन्होंने घर छोड़ दिया और 13 साल की उम्र में वह इंडियनपोलिस शहर में आ गये. कर्नल वहां नौकरी करने लगे. घोड़ों की रेस चलती थी वहां वह पेंट करने का काम था. फिर उसने वहां से भी नौकरी छोड़ दी.

साल 2006 में वह इंडिआना में अपने अंकल के पास रहने लगे. कर्नल के अंकल स्ट्रीट नाम की कंपनी में काम करते थे. जहाँ कई सारे बड़े बड़े लोग आते जाते रहते थे. फिर उनके अंकल की मदद से वहां काम करने लगा. फिर उसी समय कर्नल ने रेलवे में फायरमैन की नौकरी भी की.

कर्नल हेरलैंड सैंडर्स की शादी:

कर्नल जहां नौकरी करते थे उस वक्त उनकी मुलाकात एक लड़की से हुई. उस लडकी का नाम जोसिफी था. उस समय में दोनों ने शादी कर ली. शादी के बाद उनके घर दो लड़की और एक लड़का का जन्म हुआ. कर्नल का जीवन अब पूरी तरह से अच्छा चल रहा था, तब उनके रास्ते में अचानक कुछ अलग मोड़ आया. एक व्यक्ति से साथ लड़ाई हो जाने की वजह से उनको नौकरी से निकाल दिया गया. कर्नल की नौकरी जाने के बाद उसकी पत्नी अपने बच्चो के साथ कर्नल को छोडकर चली गई.

motivational-story-in-hindi-for-success
Motivational Story in hindi for Success

कर्नल हेरलैंड सैंडर्स की असफलता: (Success of Colonel Harland Sanders)

कर्नल हेरलैंड सैंडर्स (Colonel Harland Sanders) काफी हैरान परेशान रहे लेकिन कभी भी उसने हर नहीं मानी. कर्नल फिरसे नौकरी की तलाश में लग गया. कर्नल ने कई सारि नौकरी करके अपना जीवन गुजरता रहा. कर्नल ने टायर ,इन्सुराने और कई सारे छोटे से छोटा काम किया। इतने सारे काम के बावजूत ही वह असफल रहे.

होटल मैनेजर का कोर्स:

कर्नल हारलैंड सैंडर्स लाखो कोशिश के बाद भी वह असफल ही रहे. बाद में कर्नल केंटकी शहर के कोर्बिन नाम के गांव में आ गए. उस शहर में कर्नल ने एक गेस्ट स्टेशन खोला. गेस्ट के कहने पर उसने गेस्ट स्टेशन की मंजूरी लेके वह रेस्टोरंट खोला.

कर्नल को बचपन में उनकी माँ ने सिखाया था वहा कर्नल हारलैंड रसोई करने लगा और अच्छा चिकन भी पकाने लगे. कर्नल कुछ दिन के लिए बहुत ही अच्छा कुक बन गया और उनके चिकन की रेसिपी भी बहुत मशहूर होती गई. सबने उनकी रसोई पसंद करने के बाद उसने अपना कदम ओर बढ़ाने लगा. अच्छे कुक के लिए उन्होंने कॉर्नेल ऊनिवेर्सिटी से 8 महीने का होटल मैनेजमेंट का कोर्स किया.

कर्नल का फ्राइड चिकन केंटकी शहर के गवर्नमेंट को इतना पसंद आया की उन्होंने कर्नल को पुरुष्कार और फ्राइड चिकन बनाने की उपाधि दे डाली. उसी समय उनकी यह सफलता उनको कहा से कहा ले गई और हारलैंड की आगे कर्नल हारलैंड नाम जुड़ गया. कर्नल हारलैंड ने कई सारे कुक करने के लिए नई नई चीज़ बनाई. फिर भी हमेशा की ओर असफल रहे और उनका जो रेस्टोरंट था वहा सड़क बनने के बाद बंघ हो गया.

कर्नल हेरलैंड सैंडर्स की सफलता:

कर्नल हारलैंड ने अपनी 62 की उम्र में अपना पेट ही पाला और कुछ भी नहीं किया. कर्नल हारलैंड को अपने फ्राइड चिकन पर पूरा भरोसा था. फिर वह शहर में जाकर अलग अलग जगह फ्राइड चिकन का मार्केटिंग करने लगा. कुछ रेस्टोरंट जाकर भी उसने अपना काम बताया फिर रेस्टोरंट से भी उनको असफलता मिली.

कर्नल हारलैंड ने लाख कोशिश के बाद कभी भी उसने हार नहीं मानी. कर्नल ने कुछ इंसान ने उनकी मदद की. देखते ही देखते दुनिया में आज कर्नल हारलैंड की चिकन रेसिपी को एक नई छाप मिलती गई. आज उनके नाम से KFC का नाम और 118 देशो में फ़ैल गया है. पूरी दुनिया में उनका फ्राइड चिकन फैलता गया और उनकी जिंदगी को नई कामयाबी मिली. अमेरिका में 1952 में KFC का रेस्टोरंट खोला गया. उम्र के आखरी दिनों में उनको सफलता मिली.

कर्नल हेरलैंड सैंडर्स की मृत्यु: (Death of Colonel Harland Sanders)

कर्नल हारलैंड का 90 साल की उम्रमे साल 16 दिसंबर 1980 को मृत्यु हो गई. कर्नल हारलैंड ने अपने जीवन में काफी ज्यादा उतार चढ़ाव आए लेकिन कभी उसने हर नहीं मानी. कर्नल हारलैंड की तरह जिंदगी में कभी भी हार नहीं माननी चाईए. लाख कोशिश करने के बाद भी आपको सफलता मिलती ही है.

KFC की वैरायटी:

  • LEG PIECE BUCKET
  • CHICKEN ROLLS
  • CHICKEN BUCKETS
  • BIRYANI BUCKETS
  • BOX MEALS
  • BURGERS
  • SNACKS
  • BEVERAGES

KFC रेस्टोरेंट्स इन इंडिया:

  • Karnataka
  • Telangana
  • Andhra Pradesh
  • Tamil Nadu
  • Maharashtra
  • Kerala
  • Delhi
  • Punjab
  • Uttar Pradesh
  • West Bengal

आपने यह रियल लाइफ स्टोरी (Real Life Story) दिलचस्पी से पढ़ी इसका मतलब है की आपको ऐसी इंस्पिरेशनल रियल लाइफ स्टोरी (Inspirational Real Life Story) पढ़नी बहुत अच्छी लगती है। ऐसी ही पुरानी वास्तविक प्रेरणादायक कहानी भी आपको पसंद आएगी, जैसे की सिर्फ 2 रुपए कमाने वाली Kalpana Saroj आज है 700 करोड़ की मालकिन! की संघर्ष गाथा. और MBA की डिग्री छोड़ प्रफ्फुल बिल्लोर चाय बेच कर ऐसे बना करोड़पति!

FAQs for Motivational Story in Hindi for Success:

KFC Full Form क्या है?

KFC Full Form Kentucky Fried Chicken है.

KFC के मालिक का असली नाम क्या है?

KFC के मालिक का असली नाम कर्नल हरलैंड डेविड सैंडर्स है.

केएफसी के मालिक की मृत्यु कब हुई?

केएफसी के मालिक की मृत्यु 16 दिसंबर 1980 में हुई.


दुनिया में कितने केएफसी हैं?

दुनिया में लगभग 55,000 फैली हुई है.

केएफसी भारत कब आया था?

केएफसी भारत में साल 1995 बैंगलोर के रेस्टोरेंट में खुला.

Leave a Reply