1st Vande Bharat Express Train Chalak Surekha Yadav Ne aise Racha Itihas!

भारतीय नारी आज हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही है। देश हो या विदेश, भारतीय महिलाओं को उनकी प्रतिभा के लिए पहचाना और सम्मानित किया जा रहा है। सुरेखा यादव (Vande Bharat Express Train) पायलट बनने वाली पहली भारतीय महिला हैं। कहा जाता है कि आज की नारी हर क्षेत्र में आसमान छू रही है। आसमान में हवाई जहाज उड़ाना हो या पटरियों पर ट्रेन दौड़ानी हो, हर क्षेत्र में महिलाएं सक्षम हैं। हालांकि, आज की महिला को यह मौका इतिहास की उन महिलाओं की वजह से मिला है।

vande-bharat-express-train
Vande Bharat Express Train

जिसने पहली बार एक ऐसे मैदान में कदम रखा जहां कभी किसी महिला ने प्रवेश नहीं किया था। उन सफल महिलाओं में सुरेखा यादव भी शामिल हैं। ट्रेन के ड्राइवर को लोको पायलट कहा जाता है। सुरेखा यादव (Surekha Yadav) पूरे एशिया में पहली मानव पायलट हैं।

Vande Bharat Express Train:

सुरेखा यादव भारत की सेमी-हाई-स्पीड वंदे भारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express Train) चलाने वाली पहली मानव पायलट बन गई हैं। वंदे भारत एक्सप्रेस चलाकर सुरेखा ने नया इतिहास रच दिया है. सुरेखा ने 13 मार्च को सोलापुर से सीएसएमटी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को पायलट किया और न केवल देश की बल्कि एशिया की भी पहली महिला लोको पायलट का खिताब अपने नाम किया। सबसे अच्छी बात यह है कि सुरेखा यादव ने सोलापुर स्टेशन से समय पर ट्रेन शुरू की और निर्धारित आगमन से पांच मिनट पहले सीएसएमटी पहुंच गई है।

Surekha Yadav Biography:

टीचर बनने का सपना देख रही सुरेखा यादव का जन्म 2 सितंबर 1965 को महाराष्ट्र के सतारा में हुआ था। उनकी माता का नाम सोनाबाई और पिता का नाम रामचंद्र भोसले था। उनके पिता एक किसान थे। सुरेखा भाई-बहनों में सबसे बड़ी थीं। हालांकि पिता एक किसान थे, लेकिन उन्होंने हमेशा अपने बच्चों को इस इरादे से पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया कि वे कुछ बनेंगे।

Surekha Yadav Education:

सुरेखा यादव (Surekha Yadav) ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सेंट पॉल कॉन्वेंट स्कूल, सतारा से प्राप्त की। स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया। स्वाभाविक है कि हर लड़की अपने करियर और भविष्य को लेकर सपने देखती है। ऐसा ही एक सपना सुरेखा यादव का भी था। उनका सपना कभी ड्राइवर बनने का नहीं था। वह शिक्षिका बनकर बच्चों को पढ़ाना चाहती थी। इसलिए सुरेखा यादव ने बीएड (B.Ed) करने का फैसला किया।

vande-bharat-express-train
Vande Bharat Express Train

Dreaming of Driving a Railway Train:

कहावत है कि हम कितनी भी कोशिश कर लें, मालिक से जो उम्मीद की जाती है, वह सुरेखा यादव के मामले में सच हो गई। हुआ यूं कि एक दिन संयोग से सुरेखा यादव ने ट्रेन को गुजरते हुए देख लिया। इसमें ट्रेन चलाने वाला एक ड्राइवर भी था, जो पूरी ट्रेन को मैनेज कर रहा था। खैर सुरेखा के दिमाग में वह तस्वीर घर कर गई और उन्होंने ट्रेन चलाने का मन बना लिया। साथ ही जांच की कि ट्रेन को चलाने के लिए क्या करना होगा। तो पता चला कि उसे एक परीक्षा देनी है। खैर, फिर सुरेखा ने ट्रेन ड्राइवर बनने के लिए प्रतियोगी परीक्षा पास करने के लिए कड़ी मेहनत शुरू कर दी दिया।

Surekha Yadav Passed the Railway Exam:

सुरेखा पायलट के पद के लिए फॉर्म भरती है। सुरेखा जब परीक्षा देने गई तो परीक्षा हॉल में प्रवेश करते ही वह हैरान रह गई, क्योंकि पूरे परीक्षा हॉल में वह अकेली महिला थी। सुरेखा ने खुद को आश्वस्त किया कि शायद उस समय ट्रेन ड्राइवर पद के लिए किसी लड़की ने आवेदन नहीं किया होगा। 1986 में सुरेखा ने रेलवे विभाग की परीक्षा पास की। उसके बाद उनका इंटरव्यू हुआ, वो पास भी हुईं और सुरेखा को छह महीने की ट्रेनिंग दी गई। खैर, फिर 1989 में उन्हें ड्राइवर के रूप में नियुक्त किया गया।

Surekha Yadav Career:

सुरेखा ने अपने करियर की शुरुआत मालगाड़ी चलाकर की थी। समय के साथ वह ट्रेन चलाने में माहिर हो गए। 2000 में उन्हें प्रमोशन मिला और 2011 में सुरेखा यादव को पायलट बना दिया गया। वह पुणे के सबसे खतरनाक रूट डेक्कन क्वीन से सीएसटी रूट पर ट्रेन चला चुका है। सुरेखा यादव को जो भी काम सौंपा गया, उसे उन्होंने पूरी लगन से किया।

Surekha Yadav Personal Life:

अन्य महिलाओं के लिए एक प्रेरणा, सुरेखा यादव ने 1990 में शंकर यादव से शादी की। सुरेखा यादव के पति महाराष्ट्र सरकार में पुलिस विभाग में हैं. उसके दो बेटे हैं। अजिंक्स और अजितेश। दोनों बेटों ने मुंबई यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की है। सुरेखा यादव (Surekha Yadav ) अभी भी अपने जुनून पर कायम हैं और उसमें बढ़ने का प्रयास करती हैं। उन्हें अब तक राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार मिल चुके हैं।

अगर आप या आपके आस पास भी कोई ऐसी व्यक्ति है जो अपने जीवन में बहुत संघर्ष करके सफलता की चोटी पर पहुंचे है, तो उनके बारे में हमें हमारा संपर्क करके जरूर से बताए। हम उनकी रियल लाइफ स्टोरी (Real Life inspirational Story in Hindi) इस साइट पर प्रसिद्ध करेंगे, ताकी अन्य लोगों को प्रेरणा मिल सके और जीवन में आगे बढ़ पाए। इस मोटिवेशनल रियल लाइफ स्टोरी (Motivational Real Life Story) को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर से शेयर करना और आपका मंतव्य निचे कमेंट करके जरूर से बताना।

आपने यह Surekha Yadav की प्रेरणादायक रियल लाइफ स्टोरी (Motivational Real Life Story) दिलचस्पी से पढ़ी इसका मतलब है की आपको ऐसी इंस्पिरेशनल रियल लाइफ स्टोरी बहुत अच्छी लगती है। ऐसी ही पुरानी वास्तविक प्रेरणादायक कहानी भी आपको पढनी अच्छी लगेगी, जैसे की झोपड़पट्टी से अमेरिका की सफर की इस महिला की प्रेरणादायक रियल लाइफ स्टोरी आपकी आँखों में आंसू ला देगी और Google CEO Sundar Pichai sangharsh karke aise bane from zero to hero.

ऐसे ही जीरो से हीरो (Zero to Hero) बने महान लोगों की प्रेरणादायक कहानियां का वीडियो देखना पसंद करते हो तो हमारी यूट्यूब चैनल Sangharsh Gatha को जरूर से सब्सक्राइब कर लेना। लेटेस्ट अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहने के लिए हमारी टेलीग्राम चैनल Sangharsh Gatha को भी ज्वाइन कर लेना. धन्यवाद्.

भारत की पहली महिला ट्रेन ड्राइवर कौन थी?

भारत की पहली महिला ट्रेन ड्राइवर सुरेखा यादव (Surekha Yadav) थी।

वंदे भारत ट्रेन की कीमत क्या है?

1,000 रुपए से लेकर 2,000 रुपए तक है।


वंदे भारत की स्पीड क्या है?

वंदे भारत की स्पीड अधिकतम 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार है।

सुरेखा यादव (Surekha Yadav) कहा कि है?

सुरेखा यादव महाराष्ट्र के सतारा गांव की है।

सुरेखा यादव (Surekha Yadav) के पति का नाम क्या है?

सुरेखा यादव के पति का नाम शंकर यादव है।

This Post Has 7 Comments

Leave a Reply